पंचायत का इतिहास

चांदोली पंचायत, प० उमरेण जिला मुखयालय से उत्तर में स्थित है। प्रखण्ड मुखयालय से इसकी दूरी 26 कि.मी. और जिला मुखयालय से इसकी दूरी 19 कि.मी. है।पंचायत की कुल आबादी 5654 है जिसमें पुरूष लगभग 55% तथा महिलाओं की संखया 45% है। पंचायत में तीन ग्राम आते है।पंचायत के बीचो-बीच एक नाला है गॉव से दूसरे गॉव को जोडता जिसके दोनों ओर बस्तियाँ हैं। इसका पानी चांदोली बॉध मे एकत्रित होता हैं। चांदोली में चार-पूर्वजो के मकबर भी हे एक मकबरा मानासिद्व के नाम से जाना जाता हे जो रोजा का बास गॉव मे स्थित हे वहा पर मानासिंद्व का भण्डरा हर वर्ड्ढ होता है।यहा एक बावडी भी हे जो जय नारायण ने बनवाई थी जो हनुमान मन्दिर के समीप गाव चांदोली मे है। यहा एक सवासिद्व का मकबरा हैं। रोच्च्निद्गिाया का तकिया है। ऐतिहासिक रूप से यह पंचायत चॉदो  गुर्जर ने बसाया था इस पंचायत में 1663 हेक्टेयर उपजाउ कृषि योग्य भूमि पर खेती होती है, जिसमें मुखय रूप से आलू, गेहूँ, मक्का,प्याज, सरसो इत्यादि फसलें उगायी जाती है। कृषि मजदूरों की संखया ज्यादा है तथा आम लोगों के पास खेती की जमीन कम होने के कारण ज्यादातर मजदूर अलवर सुबह जाते हे और मजदूरी करके द्गयाम को वापस घर आते है। यहा के व्यक्ति मुखय रूप मकान बनाने का काम करते है।


 

ग्राम पंचायत के अंदर आनेवाले गाँव

  • चांदोली
  • रोज़ा का बस
  • घाटी का बस